संविदा शिक्षक 3 – पर्यावरण अध्ययन

(अ) विषयवस्तु

  • हमारा परिवार, हमारे मित्र- परिवार और समाज से सहसंबंध- परिवार के बढ़े-बूढ़े, बीमार, किशोर, विशिष्ट आवश्यकता वाले बच्चों की देखभाल।
  • हमारे पशु, पक्षी- हमारे पालतू पशु-पक्षी, माल वाहक पशु, हमारे आस-पास के परिवेश मे जीव-जन्तु।
  • हमारे पेड़-पौधे- स्थानीय पेड़-पौधे, पेड-पौधो एबं मनुष्यो की अन्तःनिर्भरता, वनो की सुरक्षा और उनकी आवश्यकता और महत्व।
  • हमारे प्राकृतिक संसाधन- प्रमुख प्राकृतिक संसाधन, उनका संरक्षण, ऊर्जा के पारंपरिक और नवीनीकृत एवं अनवीनीकृत स्त्रोत।
  1. खेल एवं कार्य
  • खेल, व्यायाम और योगासन।
  • पारिवारिक उत्सव, विभिन्न मनोरंजन के साधन-किताबें, कहानियाँ, कठपुतली प्ले, मेला आदि।
  • विभिन्न काम धंधे, उद्योग और व्यवसाय।
  1. आवास
  • पशु, पक्षी और मनुष्य के विभिन्न आवास, आवास की आवश्यकता और स्वस्थ जीवन के लिए आवास की विशेषताएँ।
  • स्थानीय इमारतों की सुरक्षा, सार्वजनिक संपत्ति, राष्ट्रीय धरोहर और उनकी देखभाल। उत्तम आवास और उसके निर्माण में प्रयुक्त सामग्री।
  • शौचालय की स्वच्छता, परिवेश की साफ-सफाई और अच्छी आदतें।
  1. हमारा भोजन
  • भोजन की आवश्यकता, भोजन के घटक।
  • फल एवं सब्जियों का महत्व, पौधों के अंगो के अनुसार फल, सब्जियाँ।
  • भोज्य पदार्थो का स्वास्थ्य वर्धक संयोजन।
  • विभिन्न प्रकार के भोजन और उन्हें पकाने की विधियाँ।
  • उत्तम स्वास्थ्य हेतु भोजन की स्वच्छता और सुरक्षा के उपाय।
  1. पानी और हवा
  • जीवन के लिए पानी और हवा की आवश्यकता।
  • स्थानीय मौसम, जल चक्र और जलवायु परिवर्तन।
  • पानी के स्त्रोत, उसके सुरक्षित रखरखाव और स ंरक्षण के तरीके।
  • संक्रमित वायु एवं पानी से होने वाले रोग, उनका उपचार और बचाव, अन्य संक्रामक रोग।
  • हवा, पानी, भूमि का प्रदूषण और उससे सुरक्षा, विभिन्न अपशिष्ट पदार्थो और उनका प्रबंधन, उचित निस्तारण।
  • भूकंप, बाढ़, सूखा आदि आपदाओं से सुरक्षा और बचाव के उपाय।
  1. आवागमन और यातायात
  • आवागमन के साधन, थल, जल, वायु संब ंधी साधन और उनका महत्व।
  • संचार की प्राचीन एवं नवीनतम आधुनिक स ुविधाएँ।
  • सुरक्षित यातायात और संकेतों का महत्व।
  • प्रमुख राष्ट्रीय और राजकीय राजमार्ग, वायुमार्ग।
  • जलयान और वायुयान तैयार करने के राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय स्थल आदि।
  1. प्राकृतिक वस्तुएँ और उपज
  • सूती, ऊनी, रेशमी कपड़ा निर्माण के रेशे और उनका उत्पादन।
  • मिट्टी, पानी, बीज और फसल का संबंध, जैविक-रासायनिक खाद।
  • विभिन्न फसलें, उनके उत्पादक क्षेत्र।
  • फसल उत्पादन के लिए आवश्यक कृषि कार्य और उपकरण।
  1. मानव निर्मित साधन एवं उसके क्रियाकलापों का प्रभाव
  • वनों की कटाई और शहरीकरण, पारिस्थितिक संतुलन पर प्रभाव।
  • ओजोन क्षय, अम्लीय वर्षा, ग्लोबल वार्मिंग, ग्रीन हाउस प्रभाव आदि।
  • आपदा प्रबंधन।
  1. पर्यावरण पास एवं दूर
  • सजीव-निर्जीव, समानताएँ, असमानताएँ।
  • शरीर के बाह्य एवं आंतरिक अंग, उनकी रचना और कार्य।
  • अपने गाँव, शहर की जिले में स्थिति, राज्य और देश, पंचायत और शासन।
  • पर्वत, पठार, नदियों की जानकारी और उनका भौगोलिक महत्व।
  • पृथ्वी, सूर्य, चंद्रमा और तारों का संबंध, दिन-रात का होना, ऋतुओं का बनना आदि।

(ब) पेडागाजिकल मुद्दे

  • पर्यावरण अध्ययन की अवधारणा और उसकी आवश्यता।
  • पर्यावरण अध्ययन का महत्व, समेकित पर्यावरणीय शिक्षा।
  • पर्यावरणीय शिक्षा के सूत्र एवं दायित्व।
  • पर्यावरणीय शिक्षा का विज्ञान और सामाजिक विज्ञान से सहसंब ंध।
  • परिवेशीय भ्रमण, प्रयोगात्मक कार्य, प्रोजेक्ट कार्य और उनका महत्व।
  • चर्चा, परिचर्चा, प्रस्त ुतीकरण और समूह शिक्षण व्यवस्था से सीखना।
  • सतत-व्यापक मूल्यांकन – शिक्षण के दौरान प्रश्न पूछना, मुखर और लिखित अभिव्यक्ति के अवसर देना,
  • वर्कशीट्स एवं एनेक्डाॅटल रिकार्ड का प्रयोग, बच्चें की पोर्टफोलियो का विकास करना, केस स्टडी और
  • व्यक्तिगत प्रोफाईल से शिक्षण व्यवस्थाएँ।
  • पर्यावरणीय शिक्षा में शिक्षण सामग्री/सहायक सामग्री और उसका अनुप्रयोग।
  • स्थानीय परिवेश की पर्यावरणीय समस्याएँ और उनके समाधान खोजने की क्षमता का विकास।

Questions